Term insurance कराने से पहले जाने 7 महत्वपूर्ण बाते

Term insurance कराने से पहले जाने 7 महत्वपूर्ण बाते

यदि आप term insurance कराना चाहते हैं, तो उससे पहले कुछ महत्वपूर्ण बातो को जानना अतिआवश्यक है। जैसे कि कितना कवर करना है, किस कंपनी से पोलिसी लें, कितने समय के लिए कवर कराना है आदि।

term insurance क्या है ?

यदि आप insurance कराते हैं और आपके साथ कोई अनहोनी हो जाती है तो आपकी गैर मौजूदगी में आपके परिवार को दी जानी वाली आर्थिक मद्द को term insurance (जीवन बीमा)कहते है।

आप निवेश व इंश्योरेंस में अंतर समझे निवेश आप आर्थिक लाभ के लिए करते हैं जबकि बीमा किसी अपातकालीन दुर्घटना से होने वाले आर्थिक नुकसान की भरपाई करने के लिए किया जाता है। इसलिए आप इंश्योरेंस को निवेश न समझे।

term insurance कराने से पहले कुछ बातो को जानना अतिआवश्यक है ताकि आपको इंश्योरेंस में वह सब मिल सके जिसकी आपको वाकई जरूरत है।

1. term insurance में आपको कितना कवर चाहिए

वित्तीय सलाहकारो का कहना होता है कि आपको अपनी वार्षिक आय का 10 से 12 प्रतिशत तक कवर लेना चाहिए। किंतु आप अपनी जरूरत के अनुसार कवर ले सकते हैं।

मान लेते हैं कि यदि आज आपके साथ कुछ अनहोनी हो जाती है, तो आने वाले समय में आपके परिवार को जीवन यापन करने के लिए कितने रुपये तक की जरूरत होगी।

आपकी गैरमोजूदगी में आपके जीवन साथी व परिवार की देखभाल, बच्चो की पढ़ाई, बच्चो की शादी, माता पिता के ईलाज, व जब तक आपके बच्चे कमाने के लायक न हो, तब तक घर का खर्च आदि सब में कितने पैसो की जरूरत होगी।

आप इसका केलकुलेशन कर अपना कवर तय कर सकते हैं। term insurance का कवर निकालने के लिए आप ऑनलाइन कैलकुलेटर की मद्द ले सकते हैं।

आप कैलकुलेटर के माध्यम से अपना इंश्योरेंस कवर निकालने के लिए लिंक पर क्लिक करें।

2. कितने समय के लिए insurance कवर की जरूरत है

 यदि आप कम उम्र में term insurance प्लान लेते है और लंबे समय के लिए पोलिसी को जारी रखते हैं। तब आपकी इंश्योरेंस की प्रीमियम कम हो जाती है। इसलिए यह सलाह दी जाती है कि अपना term insurance कम उम्र से ही आप शुरू कर दें और लंबे समय के लिए जब तक आप 65 या 70 साल के नहीं हो जाते हैं, तब तक के लिए पोलिसी लें।

आपने कुछ सालो तक प्रीमियम भरी और फिर समय के साथ, आपके न रहने के बाद आर्थिक जरूरत कम या ज्यादा हो हुई है। तब आप ऐसे में अपनी प्रीमियम कम या ज्यादा कर अपने इंश्योरेंस कवर को कम या ज्यादा कर सकते हैं।

मान लेते हैं कि जब आप 30 साल के थे और आपके दो बच्चे हैं, आपने अपने परिवार की देखभाल बच्चो की स्कूल कॉलेज की पढ़ाई, शादि आदी को ध्यान में रखते हुये 1 crore का इंश्योरेंस कवर लिया था।

आज आप 50 साल के हो गये हैं आपके बच्चो की पढ़ाई खत्म हो गई है, उनकी शादी हो गई और वे कमाने लगे हैं। अब अपके न होने पर आपके परिवार की देखभाल के लिए अधिक आर्थिक मद्द की जरूरत नहीं है। ऐसे में यदि आपको इंश्योरेंस प्रीमियम ज्यादा लग रही है, तो आप अपना इंश् कवर कम करा कर अपनी प्रीमियम कम करा सकते हैं।

3. term insurance में सही नोमिनेशन का अवश्य ध्यान रखें

आपने insurance करा लिया है और फॉर्म भरते वक्त आप अपने नोमिनी ( आपके न होने पर जिसको इंश्योरेंस का पैसा दिया जाये )की जानकारी बड़े ही ध्यान से भरे। नोमिनी का आधार कार्ड व अन्य आवश्यक दस्तवेजो को ध्यान से कंपनी में जमा करायें। इस बात का भी ध्यान करे कि नोमिनी के किसी दस्तवेज में नाम के किसी अक्षर में हेरफेर न हो, यदि ऐसा है तो दस्तवेजो को सही करा कर जमा करायें।

4. सही कंपनी का चुनाव करें

यह बहुत ही आवश्यक है कि आप insurance पोलिसी लेते समय सही कंपनी का चुनाव करें। कंपनी का चुनाव करते समय आप कंपनी की claim settlement ratio को देखे, कंपनी की सर्विस कैसी है और साथ में यह भी अवश्य पता करें कि कंपनी की आर्थिक स्थिति क्या है ?

कहने का मतलब है कि आप कंपनी की अच्छे से छानबीन करके ही उस कंपनी से पोलिसी खरीदें।

5. insurance कंपनी किस प्रकार claim के पैसो का भुगतान करती है 

यह जानना भी अतिआवश्यक है कि कंपनी क्लेम के पैसो का भुगतान किस प्रकार करती है। पहले एक साथ पूरा पैसा दे दिया जाता था परंतु अब इसमें परिवर्तन आया है।

कई कंपनियॉ इंश्योरेंस का पैसा परिवार की जरूरत के अनुसार भुगतान कर देती है।

क्लेम का कुछ पैसा एक साथ दे दिया जाता है और बाकि का पैसा परिवार की जरूरत के अनुसार मासिक किश्त के रूप में भुगतान कर दिया जाता है।

जरूरत के अनुसार दो से चार किश्तो में क्लेम की बड़ी राशि देना और बाकि का पैसा मासिक किश्त के रूप में भुगतान करना, सबसे बढ़िया उपाय है।

6. term insurance पोलिसी में raider का विकल्प भी चुने

यदि किसी दुर्घटना में आपकी जान नहीं जाती है लेकिन आप विकलांग हो जाते हैं, आप काम करने लायक नहीं रहते हैं। इस स्थिति में भी कंपनी आपको इंश् क्लेम का पैसा दे और यह भी जान ले कि इस स्थिति में कंपनी इंश्योरेंस कवर का कितने प्रतिशत पैसा देती है।

7. term insurance पोलिसी ऑनलाइन खरीदना सही या ऑफलाइन

यदि आप किसी इंश् एजेंट या एजेंशी से insurance पोलिसी खरीदते हैं, तो इसमें इंश्योरेंस कंपनी को उनके कमिशन के पैसो का भुगतान करना होता है जिस कारण आपकी इंश्योरेंस प्रीमियम की कीमत बड़ जाती है।

जितनी अधिक इंश्योरेंस की प्रीमियम होती है उतना अधिक एजेंट का कमिशन बनता है।

इसलिए अपनी कमिशन बढ़ाने के लिए, इंश्योरेंस एजेंट की कोशिश होती है कि वे आपको अधिक प्रीमियम की पोलिसी बेचे क्योकि उनका कमिशन सीधा इंश्योरेंस प्रीमियम पर निर्भर करता है।

2022 में car insurance online खरीदने के 7 जबरदस्त फायदे

इन बातो को ध्यान मे रखते हुये ऑनलाइन इंश्योरेंस खरीदना ऑफलाइन की तुलना में सस्ता होता है। ऑनलाइन मे आप discount व अन्य cashback का भी लाभ ले सकते हैं।

thanks for your support please share and comment

आपको यह पोस्ट कैसी लगी कृप्या हमें कमेंट कर अवश्य बतायें।
साथ ही आपने साथियों और मित्रो के साथ इस पोस्ट को अवश्य करें। यदि आप सेल्स और बिजनेस से संबधित किसी topic पर पोस्ट चाहते है। तो हमें कमेंट में अपना topic लिख कर बतायें।

Leave a Comment

Your email address will not be published.