sales prospecting क्या है, prospecting funnel सेल्स में सफलता की पहली सीढ़ी क्यों है

sales prospecting क्या है, prospecting funnel सेल्स में सफलता की पहली सीढ़ी क्यों है

Prospecting क्या हैं

 यदि बात की जाये कि सेल्स का पहला स्टेप क्या है ? तो सेल्स का पहला स्टेप prospecting ही है। जब आप सेल्स शुरू करते है तो सबसे पहले आपको उस संभावित व्यक्ति को ढॅूढना होता है, जो आपसे आपका माल या प्रोडक्ट खरीद सके। इसी संभावित व्यक्ति को prospect कहते है और इस पूरी प्रक्रिया को prospecting कहते है।

Prospect and customer में क्या अंतर है या prospect और ग्राहक में क्या अंतर है

कई लोगो को इसमें उलझन होती है और वे यह नहीं समझ पाते है कि prospect किसे कहते है और customer या ग्राहक किसे कहते है। कई लोग prospect व customer को एक ही समझते है। लेकिन सेल्स की भाषा में ये दोनो शब्दो का अलग अलग मतलब होता है।

जिन लोगो ने आपका प्रोडक्ट या सर्विस्स खरीद लीं हैं उन्हें हम customer या ग्राहक कहते हैं। और जिन्होंने अभी तक आपका प्रोडक्ट या सर्विस्स नहीं खरीदीं हैं, लेकिन आप उन्हें अपना प्रोडक्ट या सर्विस बेचना चाह रहें हैं, उन्हें हम prospect कहते हैं।  

सेल्स में सफलता की पहली सीढ़ी क्या है और prospecting funnel   क्या है

सेल्स में सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण और सफलता की पहली सीढ़ी prospecting funnel  है।

   जैसा कि आप जान चुके हैं prospect का मतलब है, वे संभावित लोग जो आपसे आपका प्रोडक्ट या सर्विस्स खरीद सकते हैं । इसी प्रकार prospecting funnel  यानि उन लोगो के नाम की लिस्ट जो आपसे आपका प्रोडक्ट या सर्विस्स खरीद सकते हैं। prospecting funnel को ही sales funnel, sales list, business list, prospect list, आदि नामो से जाना जाता है ।

Prospecting funnel कैसे बनाये या फिर सही prospect कैसे ढूँढे

सबसे पहले, आपको यह जानकारी स्पष्ट हो कि आपकी काम करने की लोकेशन क्या है और कहॉ तक है ? ताकि कभी ऐसा न हो कि आप किसी ऐसे व्यक्ति को अपना प्रोडक्ट बेचने के लिए मेहनत करते रहे और बाद में पता चला कि वह आपके लोकेशन के बाहर है, जिस कारण फिर आप उसे अपना माल नहीं बेच पाये।

     आपको यह भी क्रिस्टल क्लियर हो कि आपके prospect  कौन लोग हो सकते हैं ? prospect किस उम्र के लोग हो सकते हैं ?, prospect किस प्रोफेशन के लोग होंगें।

 उदाहरण के तौर पर, अगर आप कोई स्कूल या कॉचिंग आदि चला रहे है। तो आपको बच्चों की जरूरत है।

अगर आप मेडिकल फील्ड में MR  या अन्य किसी भी पोस्ट पर हो, तो आपके prospect  डॉक्टर व मेडिकल स्टोर वाले होंगें।

अगर आप car insurance  सेल्स करते हो, तो आपके prospect वह लोग होगें जिनके पास car है।

अगर आप किसी बैंक में सेल्समेन हो, तो आपके prospect वह लोग होंगे, जो जॉब या बिजनेस कर रहे हों और उनकी हर महीने की आमदानी हो। वह बैंक की किसी सर्विसस का उपयोग कर सके और आप उन्हें वह सर्विसस बेच सके।

आपकी मार्केटिंग की फील्ड कोई भी हो सकती है। आप टेलीकॉम में हो, फाइनेंस में हो, मेडीकल में हो, एडुकेशन में हो, आप किसी भी फील्ड में हो।

  आपको एकदम क्लियर होना चाहिए कि किन लोगो को जाकर आपको अपना प्रोडक्ट या सर्विस्स बेचनी है। जितना आपको यह स्पष्ट होगा कि कौन लोग आपसे आपका प्रोडक्ट या सर्विस्स खरीद सकते हैं, आपको सेल्स करने में उतनी आसनी होगी और जल्दी सफलता मिलेगी।

आपकी कंपनी की पॉलिसी में आपको बता दिया जायेगा कि किस लॉकेशन व किस उम्र के लोगों को आप अपना प्रोडक्ट सैल कर सकते हैं।

 यदि आप सेल्स में सफल होना चाहते हो, तो आपका सबसे मुख्य हथियार है prospecting funnel । आपकी यह लिस्ट जितनी बड़ी और सटीक होगी, आपको प्रोस्पेक्ट तक पहॅुचने में उतनी आसानी होगी। इसलिए हर रोज अपनी इस  sales list पर काम करें और इसे अपडेट करते रहे।

सफल सेल्समैन बनने के लिए दुनिया का महान सेल्समैन किताब एक बार अवश्य पढ़े।

Prospecting funnel या sales funnel में नाम जोड़ने का सही तरीका

एक डायरी में या अपने मोबाइल , लैपटॉप आदि में उन सभी के नाम लिख लें जिन्हें आप अपना प्रोडक्ट बेंच सकते हो, जिनसे आप रिफरेंस ले सकते हो।

   आप जैसे ही आपकी प्रोस्पेक्ट से बात होती जाये आप उनके फीडबैक व यह लिखते जायें कि किसने कब मिलने का वक्त दिया है।

Sales funnel में किन लोगो के नाम लिखें

उदाहरण के तौर पर आज तारीक 18 सितम्बर 2020 है, किसी ने आपसे 20 सितम्बर को मिलने के लिए कहा, किसी ने 25 सितम्बर इत्यादि इन मिटिंग की डेट को आप अपनी कंपनी के सॉफटवेयर में अपडेट कर दें।

अधिकतर कंपनियॉ सेल्स फनल के लिए सॉफटवेयर का उपयोग करने लगीं, जिसमें यह पहले ही लिख दिया जाता है कि कब किस तारीक को किस prospect से मिलना है और उस तारीक के एक दिन पहले व उस तारीक को वह सोफटवेयर हमें उपडेट कर देता है कि हमें किस prospect से मीटिंग करनी है। 

   यदि आपके कंपनी मे सॉफटवेयर का उपयोग न होता हो, तो आप तारीक वाली डायरी खरीदें और जिस तारीक को जिस प्रोस्पेक्ट ने मिलने के लिए कहा हो, उसी तारीक पर उस प्रोस्पेक्ट का नाम लिख दें।

    उदाहरण के लिए 18 सितम्बर को राजेश मेहरा ने  आपसे कहा कि वह 20 सितम्बर को दोपहर 3 बजे वह अपनी ऑफिस में आपसे आपके प्रोडक्ट के विषय में चर्चा करने के लिए मिल सकता है। तो आप  अपनी डायरी में 20 सितम्बर वाली डेट पर राजेश मेहरा का नाम लिख दें। 

 ताकि जैसे ही उस तारीक के दिन आप अपनी डायरी खोलेंगे आपके सामने आपके प्रोस्पेक्ट का नाम होगा और आप उसके साथ होने वाली मिटिंग को मिस करने से बच जायेगें।

thanks for your support please share and comment

आपको यह पोस्ट कैसी लगी कृप्या हमें कमेंट कर अवश्य बतायें।
साथ ही आपने साथियों और मित्रो के साथ इस पोस्ट को अवश्य करें। यदि आप सेल्स और बिजनेस से संबधित किसी टाॅपिक पर पोस्ट चाहते है। तो हमें कमेंट में अपना टाॅपिक लिख कर बतायें।

यदि आपको हमारी website आपके लिए helpful साबित होती है, तो हमें subscribe अवश्य करें और अपनो के साथ share कर हमारा हौंसला बढ़ाये।

Leave a Comment

Your email address will not be published.